SHARE

Luxembourg. इस देश का नाम शायद आपने पहले कभी नहीं सुना होगा पर इस देश ने जो काम किया है जिसकी वजह से ये ऐसा करने वाला पहला देश बन गया. जी हा! दोस्तों यूरोप के इस छोटे से देश ने ट्रांसपोर्ट सर्विसेज फ्री करके बड़ा कारनामा कर दिखाया है|

दरअसल, साल 2018 के आखिर में जेवियर बेटल ने लक्जमबर्ग के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद इसका ऐलाना किया था। यह उनका चुनावी वादा था कि वो पब्लिक ट्रांसपोर्ट को मुफ्त करेंगे। इस फैसले से देश के करीब छह लाख नागरिकों, 1,75,000 सीमा-पार के मजदूरों और यहां आने वाले 12 लाख सैलानियों को फायदा होगा।

इस मौके पर गतिशीलता और सार्वजनिक कार्यों के मंत्री ने कहा “The range, punctuality and quality of the services on offer are crucial to motivating people to change their habits and switch from private cars to public transport.”

Luxembourg यूरोप का सातवां सबसे छोटा देश है| यहां हर शनिवार को बस, ट्रेन और ट्राम में पहले से मुफ्त यात्रा का नियम था, लेकिन अब यह सप्ताह के सातों दिन मुफ्त रहेगा। इस कदम से जर्मनी, बेल्जियम और फ्रांस से आने वाले सैलानियों को भी फायदा मिलेगा। पहले 2 घंटे से ज्यादा की यात्रा के लिए लोगों को 2 यूरो यानि 160 रु. किराया देना पड़ता था।

क्या है वजह मुफ्त परिवहन की?

दरअसल परिवहन सेवाओं को मुफ्त करने के पीछे सड़कों पर भीड़भाड़ और वाहनों की संख्या कम करना है। इससे पर्यावरण की दशा भी सुधारेगी। इसके अलावा इसका मकसद अमीरों और गरीबों के बीच बढ़ती खाई को भी पाटना भी है। दरअसल, यूरोपीय संघ के सभी देशों के मुकाबले यहां प्रति व्यक्ति कारों की संख्या सबसे ज्यादा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, लक्जमबर्ग में 60 फीसदी से अधिक लोग दफ्तर जाने के लिए अपनी कार का उपयोग करते हैं। सिर्फ 19 फीसदी लोग ही सार्वजनिक परिवहन के साधनों का इस्तेमाल करते हैं।

देश की इकॉनमी का क्या होगा?

इस सेवा की भरपाई के इन्तेज़ाम सरकार ने पहले ही कर रखी है अभी जयादा तो नही तो बताया पर इतना जरूर कहा कि “Part of the cost will be covered by eliminating the tax break for commuters which will also encourage people to shift away from the use of private cars in Luxembourg.”

 

लोगो का क्या रहा Reaction…

 

हमें उम्मीद है की आपको ये रोचक जानकारी पसन्द आयी होगी आप हमें कमेंट करके बता सकते है की आपकी इस फैसले पर क्या राय है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here