What is Solar and Lunar Eclipse in Hindi | सूर्य और चंद्र ग्रहण

0
113

सूर्य ग्रहण क्या है / Solar Eclipes

 

आपने सुना होगा कि “दिन में ही रात हो गई” और कभी कभी “रात में अचानक से चांद गायब” हो गया यह कोई जादू नहीं है बल्कि सूर्य ग्रहण का असर होता है, तो आज हम जानेंगे सूर्य ग्रहण से जुड़ी कमाल की जानकारी|

सूर्य ग्रहण उस वक्त को कहा जाता है जब पूरी तरीके से चांद सूरज के सामने आ जाता है उस वक्त को सूर्य ग्रहण कहते हैं|

Sun ~ Moon ~ Earth = Solar Eclipes

जो ऊपर तस्वीर देख रही हो उसमें सूरज की रोशनी चांद पर पढ़कर पृथ्वी पर गिर रही है और जो पतली और गहरी रोशनी है उसे Umra कहते हैं और जो हल्की चांद की दोनों तरफ से पृथ्वी पर गिर रही है उसे हम Penumbra कहते हैं|

आप सोच रहे होगे चांद तो हर महीने पृथ्वी का चक्कर लगाता है इस वजह से यह हमें हर महीने दिखना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं होता और यह हर जगह दिखता भी नहीं है अगर आप भारत में है तो आप सूर्य ग्रहण शायद देख पाए|

सबसे बड़ा कारण इसका हर महीने ना दिखने का यह है कि यह पृथ्वी का चक्कर 5.1° की झुकाव पर लगाता है और यह पृथ्वी का चक्कर अंडाकार में लगाता है जिसकी वजह से यह कभी तो पृथ्वी के काफी पास होता है और कभी पृथ्वी के काफी दूर होता है|

दूसरा सबसे बड़ा सवाल

सूरज का व्यास- 1.391 million km
पृथ्वी का व्यास- 12,742 km
चंद्रमा का व्यास- 3,474 km

आपके मन में यह भी सवाल उठाया होगा कि अगर हम चांद की तुलना पृथ्वी से करें तो वह काफी छोटा है और सूरज से करें तो वह बहुत ही छोटा है, फिर कैसे कोई चांद सूरज को पूरी तरीके से डर सकता है|

इसका उत्तर यह है कि सूरज तो बड़ा है लेकिन यह हम से बहुत दूरी पर है जिसकी वजह से सूरज हमें चांद इतना बिकता है और उसकी रोशनी भी पृथ्वी तक पहुंचते-पहुंचते कम हो जाती है जिसकी वजह से चांद सूरज को ढक पता है|

सूर्य ग्रहण(Soalr Eclipes) को 4 भागों में बांटा गया है|

1) पूर्ण ग्रहण / Total Eclipes

जब चंद्रमा पूरी तरीके से सूरज को ढक लेती है और हमारे पृथ्वी पर पूरी तरीके से अंधेरा हो जाता है उसको हम Total Eclipes कहते हैं|

2) आंशिक ग्रहण / Partial Eclipes

जब चंद्रमा सूरज को पूरा नाटक की सिर्फ आधा ढका हुआ गुजरे तो उसको हम आंशिक ग्रहण कहते हैं|

3) वलयाकार ग्रहण / Annular Eclipes

जब चंद्रमा सूरज को ढक ले लेकिन उसके बहार एक चमकीली रिंग बन जाए या फिर आप यह भी कह सकते हैं चंद्रमा सूरज को ढकने में पूरी तरीके से असमर्थ रहे उस समय जो चंद्रमा के भारी ओर चमकीली रिंग बनती है उसको हम वलयाकार ग्रहण कहते हैं|

4) हाइब्रिड ग्रहण / Hybrid Eclipes

What is Lunar eclipse / चंद्र ग्रहण क्या है|

Lunar eclipse in Hindi

 

जब सूरज और पृथ्वी के बीच चंद्रमा आता है तो उसको हम सूर्य ग्रह कहते हैं और जब सूरज और चंद्रमा के बीच पृथ्वी आती है उसको हम चंद्र ग्रहण कहते हैं|

Sun ~ Earth ~ Moon = Lunar eclipse

आपने बहुत बार चंद्रमा को लाल रंग का देखा होगा वह चंद्र ग्रह की वजह से होता है|
सूरज की रोशनी सीधी पृथ्वी पर बढ़ती है और पृथ्वी के वायुमंडल से सूरज की रोशनी छान के चांद पर पड़ती है जैसे चंद्रमा हमें लाल रंग का दिखता|

मजेदार तथ्य– अगर हम सूरज को अंतरिक्ष से देखेंगे तो वह हमें बिल्कुल सफेद रंग का दिखाई पड़ेगा|

सूर्य ग्रहण 3 मिनट से ज्यादा नहीं लगता है|

Warning

अगर आप कभी सूर्य ग्रहण को देखें तू अपनी नंगी आंखों से ना देगी अगर आपने गलती से भी सूर्य ग्रहण के टाइम सूरज हो अपनी नंगी आंखों से देख लिया तो आपकी आंख की रोशनी भी जा सकती है|

सूर्य ग्रहण को देखने के लिए एक अलग से गहरे काला कलर का चश्मा आता है आप उसको पहने बिना नहीं देख सकते हैं|

यह भी पढ़ें; IC 1101- The Largest Galaxy In Our Univers In Hindi

यह भी पढ़ें; What is Goldilocks Zone in Hindi | वासयोग्य क्षेत्र क्या है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here