What will happen if the moon explodes, will the earth be eroded?

3

कैसे बना चांद

आज आप इस पोस्ट में जानेंगे क्या हो अगर अगर चांद फट जाए, क्या हम चांद के बिना रह सकते हैं या फिर हम भी चांद के साथ हमारा भी अंत हो जाएगा|
450 करोड़ साल पहले पृथ्वी बनी और फिर 400 करोड़ साल पहले पृथ्वी से एक मंगल ग्रह इतने बड़े ग्रह से पृथ्वी की टक्कर हुई जिससे पृथ्वी का एक बड़ा हिस्सा टूट के आसमान में चला गया|
पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण की वजह से जो पृथ्वी के टुकड़े हुए थे वह ज्यादा दूर अंतरिक्ष में जा नहीं पाए, पृथ्वी ने उन्हें बांधे रखा कुछ समय बाद छोटे-छोटे टुकड़े एक बड़ी से गोलाकार में बदल गए जिसको आज हम चांद कहते हैं|

पृथ्वी की दूरी चांद से 2,84,400km की दूरी पर है|

अगर ऐसे देखा जाए तो चांद पृथ्वी का ही हिस्सा है इसीलिए हम सब चंदा मामा कहते हैं|

अगर चांद फट जाए तो क्या होगा

अगर चांद फट जाए तो क्या होगा

चांद हमारे पृथ्वी के लिए क्यों खास है

जो समुंदर में बड़ी-बड़ी लहरें बनती है वह लहरें चांद की ग्रोथ गुरुत्वाकर्षण की वजह से बनती है|

चांद हमारी पृथ्वी को 23.5° के एंगल पर टिल्ट किए रहता है जिससे हमारी पृथ्वी बैलेंस बनी रहती है और आसानी से सूरज का चक्कर लगाती है|

अब चांद फट गया है

चांद के खत्म होने के 1 घंटे बाद ही समुद्र में इतनी बड़ी-बड़ी लहरें उठेंगी जिसका कोई अनुमान नहीं बड़ी का मतलब इतनी बड़ी कि एक 30-40 माली बिल्डिंग को आसानी से डूबा ले जाये|
Credit- Wikipedia
समुद्र के पास जितने भी देश है वह पानी में डूब चुके होंगे और जो बच गए होंगे वह आगे की तबाही नहीं देख पाएंगे|
जब सारे समुद्र तट डूब चुके होंगे और समुद्र के आस-पास के देश तबाह हो चुके होंगे उसके 1 घंटे बाद पानी शांत हो जाएगा इतनाा अगर चांद फट जाए|
समुद्र की लहरें इतनी ऊंची इसलिए उठेंगे क्योंकि जब चांद था तो वह सूरज के गुरुत्वाकर्षण रोके रहता था पृथ्वी पर लगने से और जब चांद नहीं रहेगा तो सूरज अपनी मनमानी करेगा जिसका नतीजा आप ऊपर पड़ी चुके हैं|
ऐसी दिखेगी पृथ्वी अगर चांद फट जाए तो
Credit- svs.gsfc.nasa.gov
चांद के खत्म होने के थोड़ी देर बाद पृथ्वी शेक करने लगेगी, जैसा कि हम सब जानते हैं चांद पृथ्वी को 23.5° पर बैलेंस किए रहता है अब जबकि चांद नहीं रहेगा तो पृथ्वी का बैलेंस भी छोड़ जाएगा और पृथ्वी शेक करने लगेगी इतना भयानक होगा अगर चांद फट जाए|
पृथ्वी अपने एक्सेस पर ही सूरज का चक्कर लगाएगी और एक्सेक्स पर ही शेक करेगी|
इस शेक की वजह से पृथ्वी पर जितने भी वोल्केनो है वह सब एक्टिव हो जाएंगे और आप अंदाजा लगा सकते हैं वोल्केनो एक्टिव होने पर पृथ्वी का क्या हाल होगा|
इसका असर हम इंसान पर तो होगा ही और साथ ही साथ जानवर फिर भी होगा और जानवर के साथ-साथ पानी में जितने भी जीव रहते हैं उन पर भी होगा, रिसर्च के मुताबिक पानी में रहने वाले जीव इस नए चेंज को ढाल नहीं पाएंगे जिसके कारण उनकी ज्यादातर प्रजाति की मौत हो जाएगी|
समुद्र बहुत बड़ा है और उसमें रहने वाली मछलियों की तादात की कोई गिनती नहीं और अगर यह मरे तो क्या-क्या बीमारी हो सकती है इसका हम अंदाजा भी नहीं लगा सकते|
वही मछलियां जिंदा रह पाएंगे जो हाइब्रिड पैदा होंगी और इस मौसम को जीने के लिए बनी होंगी|
अब आप अंदाजा लगा पा रहे होंगे की क्या होगा अगर चांद फट जाए|

मौसम में असर

मौसम का असर इस तरह से बदलेगा की जहां पर सबसे ज्यादा गर्मी पड़ती थी उस जगह पर बर्फ गिरने लगेगी और जहां पर बर्फीला इलाका था वहां पर इतनी कड़ाके की गर्मी पड़ेगी की जिसका कोई अंदाजा भी नहीं है|

हर घंटे मौसम चेंज होने लगेगा कभी तेज धूप तो कभी तेज ठंड ऐसे मौसम हर घंटे 2 घंटे पर चेंज होता रहेगा|

इतनी तेज मौसम में बदलाव के कारण कोई भी किसान खेती नहीं कर पाएगा और हमें लैब में आर्टिफिशियल तरीके से बनी हुई सब्जी खानी पड़ेगी|

सब्जियों के दाम इतने बढ़ जाएंगे कि लोग उसके लिए भी एक दूसरे का खून करने को तैयार हो जाएंगे इतना भयानक होगा अगर चांद फट जाए|

चांद के खत्म होने के 5 दिन बाद अब पूरा दिन 24 घंटे का ना रहे के सिर्फ 6 घंटे का एक दिन होगा जिसमें 3 घंटे दिन और 3 घंटे रात होगी|

इसका कारण यह है कि धरती इतनी तेजी से रोटेशन करने लगेगी कि 1 दिन में सिर्फ 6 घंटे रह जाएंगे|

इन सब को अगर इंसान ढाल भी ने तो फिर भी चांस नहीं है कि वह जिंदा बच पाए क्योंकि नई-नई परेशानियां सामने आती रहेंगी और हो सकता हूं कि चांद के खत्म होने के बाद एक नई किस्म की जिंदगी पैदा हो और हमारा वही हाल है जो डायनासोर का हुआ था|
इतना बुरा होगा अगर चांद फट जाए|

यह भी पढ़ें- जनरेशन शिप क्या है, क्या यह पृथ्वी के खत्म होने के बाद हमारा दूसरा घर होगा

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here