मोदी के शपथ ग्रहण की खास डिश “दाल रायसीना” जाने कैसी होती है

1
 शपथ ग्रहण
Zee news.India.com
इंडिया का 2019 का जनरल इलेक्शन खत्म हो चुका और रिजल्ट हम सब जानते है, बीजेपी ने 353 सीटों पर जीत करें एक बड़ी जीत दर्ज कर दी है और एक बार फिर से नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बन गए है| उनका 30 मई को शपथ ग्रहण था इस शपथ ग्रहण में देश-दुनिया से लगभग 5 से 6000 निमंत्रित अतिथि शामिल हुए ।
यह शपथ ग्रहण राष्ट्रपति भवन में होने वाला है, इस शपथ समारोह को काफी सादा रखने की कोशिश की गई है इसमें ना कोई ज्यादा खिलाने पिलाने और देखरेख का तामझाम है बल्कि इस कोई एक सादा सा शपथ ग्रहण के रूप में मनाया जाएगा और नरेंद्र मोदी अपने अगले कार्यकाल की शपथ ग्रहण करेंगे |

मेहमानों के लिए 48 घंटे तक पकाई गयी ‘दाल रायसीना’

 

Credits- Hindi News – India TV
राष्ट्रपति भवन के शेफ की बात माने तो यह ‘दाल रायसीना’ को 2 दिन पहले से बनाने की तैयारी होने लगी थी और यह दाल राष्ट्रपति भवन भोग की स्पेशलिटी है, इस दाल को 2 दिन पहले से बनाने की तैयारी इसलिए होने लगी थी क्योंकि इसको तैयार होने में कुल 48 घंटे लगते हैं, इस दाल को बनाने के खास मसाले लखनऊ से मंगाए जाते हैं|

दाल पकने के समय को लेकर विवाद

इस दाल को बनाने की शुरुआत पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल के समय से शुरू हुई थी, राष्ट्रपति भवन के पुरानी शेफ मछिन्द्र कस्तुरी ने इसकी शुरुआत की थी लेकिन उन्होंने कहा था इस दाल को बनाने के लिए सिर्फ 6 से 7 घंटा लगेगा लेकिन उधर दूसरे शेफ मॉन्टी सैनी ने कहा इस दाल को बनाने के लिए कम से कम 48 घंटे का समय चाहिए इस बात पर दोनों शेफ के बीच में विवाद हो गया और जब बनाने की तैयारी शुरू हुई तब पता चला इस दाल को बनाने के लिए 48 घंटे लगेंगे तभी से या दाल राष्ट्रपति भवन की एक स्पेशल भोग बन गया है|

चाय के साथ समोसे और राजभोग

जैसे कि हमने पहले बताया इस शपथ ग्रहण को जितना सादा हो सकता है उतना सादा बनाने की कोशिश की गई थी यही कारण है कि आने वाले अतिथि को इस भोग से नवाजा गया था|

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here