5 बार जब दुनिया ख़त्म होने से बाल-बाल बची

0




दोस्तों स्वागत है आपका बहुत ही फ्रेश और कमाल पोस्ट में  बताऊंगा 5 ऐसी घटनाओं के बारे में कि जब हमारी धरती लगभग खत्म हमारी धरती लगभग खत्म होने वाली थी दोस्तों हर प्लेनेट और स्टार भी हम इंसानों की तरह खत्म होते हैं और एक दिन यह प्लैनेट जिस पर आप बैठ कर जिस पर आप बैठ कर या लेट कर आप इस पोस्ट को पढ़ रहे हैं यह भी खत्म होगा लेकिन अभी प्लैनेट चल रहा है क्योंकि बीते समय में ऐसे मौके आए जब यह प्लेनेट एकदम खत्म होने वाला था लेकिन बार-बार बच गया….




5:- आईसलैंडिक वोल्केनो का फटना सन 1783 और 1784 में हुआ यह एक बहुत ही बड़ा ज्वालामुखी विस्पोट था जो आइसलैंड में हुआ था आइसलैंड में हुई घटना का असर पूरी धरती पर हजारों किलोमीटर दूर तक हुआ इस ज्वालामुखी के फटने के 8 महीने बाद तक लावा निकलता रहा सल्फ्यूरिक एसिड हवा में फैल गया जिसे पूरी धरती का टेंपरेचर 1.3 डिग्री तक दो-तीन सालों तक कम हो गया था इसे पूरे यूरोप में फसलों का नुकसान हुआ और इंडिया में सूखा भी पड़ गया इस घटना से 700000 लोगों की जान चली गई गई  थी

4: स्पेनिश फ्लो 1918 में इनफ्लुएंजा ने 50 करोड़ लोगों को क्षतिग्रस्त कर दिया था इस महामारी में दुनिया से 3 से 5 परसेंट लोगों की जान ले ली थी थी इसे इतिहास की सबसे खतरनाक प्राकृतिक आपदा माना जाता है जिसने केवल 25 हफ्तों में 25000000 लोगों को मार दिया था

3:- मार्स इंस्टिगेशन साइंटिस्ट के अनुसार आज से 45 करोड़ 45 करोड़ करोड़ साल पहले हमारे हमारे पूरे प्लेनेट का टेंपरेचर अचानक से कम होने लगा इस घटना को आज हम आइस एज आइस एज के नाम से जानते हैं इस घटना ने प्लेनेट की 80 प्रकार की प्रजातियों प्रजातियों को खत्म कर दिया था

2:- द ब्लैक प्लेग यह एक ऐसी घटना थी जिसके बारे में जानकर आप चौक जायेंगे यह 14 वी शताब्दी में यूरोप में फैली थी और इस बीमारी ने यूरोप की आबादी से 60% आबादी को खत्म कर दिया था यह बहुत ही खतरनाक बीमारी थी जो चूहों के बल पर बहुत तेजी से फैल गई थी यह बीमारी यह बीमारी अगर और ज्यादा फैलती तो लगता है कि तो तो लगता है कि पूरी इंसानी अबादी खत्म हो जाती हो जाती खत्म हो जाती हो जाती अबादी खत्म हो जाती हो जाती यह बीमारी दुनिया में अब भी कहीं-कहीं फैल जाती है 2013 में भी इसने 126 लोगों की जान ली थी



1:- बो नीला कॉमेट  1883 में मैक्सिको के एस्ट्रो एस्ट्रो-नोमर बो-नीला अंतरिक्ष में कुछ ऑब्जेक्ट को नोटिस किया और उनके बारे में अपनी बुक में भी लिखा बाद में इस घटना के बारे में पढ़ाई की गई तो पता चला कि यह धूमकेतु हमारे प्लैनेट्स है है है 683 किलोमीटर दूर से निकल गए थे और इनका साइज के वजन का अंदाज़ा लगाते हुए वैज्ञानिकों ने बताया कि यह कुछ अरब टन भारी थे थे और अगर यह पृथ्वी से टकरा जाते हैं तो हमारे पूरे जीवन का ही सफाया हो जाता सफाया हो जाता ही सफाया हो जाता अगर ऐसा होता तो ना ही स्मार्टफोन बने होते हैं और ना ही ही यूट्यूब स्मार्टफोन बने होते हैं और ना ही यूट्यूब और ना ही यूट्यूब होता और ना ही हम होते और ना ही आप यह पोस्ट पढ़ रहे होते तो दोस्तों की रहती है छोटी सी सी पोस्ट छोटी सी सी पोस्ट है छोटी सी सी पोस्ट छोटी सी सी पोस्ट तो अगर यह सभी घटनाएं और ज्यादा फैल जाती तो शायद इंसानियत ही आज ना होती आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें हमारी वेबसाइट पे कमेंट करके जरूर बताइएगा और ऐसे ही पोस्ट पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट पर आप रोजाना विजिट किया करें आपको बहुत इंटरेस्टिंग पोस्ट पढ़ने को यहां पर मिलती हैं अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई है तो इसे अपने दोस्तों से शेयर करें दोस्तों के व्हाट्सएप पर फेसबुक पर टि्वटर इंस्टाग्राम पर ताक इस इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़ सकें , आप हमारी वेबसाइट पर एक बार जरूर आ जाए तब तक के लिए हमारी पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद।।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here