मंगल ग्रह के रोचक तथ्य // Amazing facts about Planet Mars

2
हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट में और आज के इस पोस्ट में हम बात करने वाले हैं धरती के धरती के पड़ोसी ग्रह मंगल यानी कि mars के बारे में हम एक इंटरेस्टिंग बातें करने वाले हैं तो दोस्तों हमारी पृथ्वी के बाद सौरमंडल में हमारा यही ग्रह लाइफ ग्रह लाइफ के लिए सबसे अनुकूल माना जाता है इसमें और पृथ्वी में काफी समानताएं पाई जाती  हैं   
 
 
 
हमारी पृथ्वी अपने अक्ष पर 23 पॉइंट 5 23 पॉइंट 5 डिग्री झुकी है इसी वजह से यहां पर मौसम बदलते हैं इसी तरह मार्च भी अपने एक्सेस पर 25 डिग्री झुका हुआ है और यहां पर भी साल भर भर मौसम बदला करते हैं मार्स का डायमीटर 6790 किलोमीटर जबकि पृथ्वी का डायमीटर 12742 किलोमीटर का डायमीटर 12742 किलोमीटर है इस हिसाब से मार्स हमारी पृथ्वी के साइज से से से लगभग आधे से थोड़ा ज्यादा है भले ही 1 रहे हमारी धरती से मिलता जुलता क्यों ना हो हमारी धरती से मिलता जुलता क्यों ना हो क्यों ना हो जुलता क्यों ना हो क्यों ना हो फिर भी हम यहां पर बिना किसी लाइफ सपोर्ट के 1 मिनट पर जिंदा नहीं रह सकते हैं हैं जिंदा नहीं रह सकते हैं हैं यहां पर ऑक्सीजन गैस तो है लेकिन 0.2% से भी कम जबकि कार्बन डाइऑक्साइड 96 परसेंट है है हमारी धरती पर मौजूद 21 परसेंट ऑक्सीजन ऑक्सीजन ऑक्सीजन मौजूद 21 परसेंट ऑक्सीजन ऑक्सीजन हमारे जीने के लिए काफी है वैज्ञानिक ऐसे माइक्रोब्स बनाने बनाने की कोशिश कर रहे हैं जो मंगल ग्रह पर कार्बन डाइऑक्साइड को कन्वर्ट करके करके ऑक्सीजन में बदल दे ताकि इंसान वहां पर रह पाए पाए मार्स अपनी धुरी पर एक चक्कर 24 घंटे 40 मिनट में कंपलीट करता करता है 
 
 
 
 
 
लेकिन यहां पर 1 साल पृथ्वी के के पृथ्वी के 1 साल के मुकाबले दुगना होता है मार्च पर 1 साल 1 साल 6187 दिनों में पूरा होता है मार्स पर आने आने वाले धूल भरे तूफान काफी तेज और पूरे शौर्य मंडल के काफी अजीब होते हैं यहां पर बहुत ही अत्यधिक तेजी से तूफान आते हैं जो थोड़ी जगह को नहीं बल्कि पूरे ग्रह बल्कि पूरे ग्रह को अपनी चपेट में ले लेते हैं और काफी समय तक लगातार चलते रहते हैं हमारे सौरमंडल में लगभग सभी ग्रह में मौजूद सबसे ऊंचा पहाड़ मार्स पर है जिसका नाम है निक्स ओलंपिया यह 21 किलोमीटर ऊंचा और और 600 किलोमीटर चौड़ा है जबकि हमारी पृथ्वी की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट सिर्फ 8850 मीटर ही ऊंची है मार्च की हमारी धरती से औसतन दूरी हमारी धरती से औसतन दूरी लगभग 22 करोड पचास लाख किलोमीटर है यहां पर भारत के द्वारा भेजे गए मंगलयान को जाने में 298 दिनों का समय लगा था मंगलयान के मार्ग पर पहुंचने के बाद इंडियामार्ट पर पहुंचने वाला एशिया का पहला देश बना और पहले ही बार में ही बार में 1 मार्च पर पहुंचने वाला दुनिया का पहला देश बना मार्स से सूरज की दूरी लगभग 22 करोड़ 8000000 किलोमीटर 8000000 किलोमीटर है यहां पर सूरज का साइज धरती से दिखने का साइज धरती से दिखने धरती से दिखने वाले सूरज के साइज से लगभग आधा होता है मार्स धरती के अलावा सोलर सिस्टम का एकमात्र एक ऐसा ग्रह है जिसके ध्रुवों पर बर्फ जमी है
 
 
 
 दोस्तों मंगल ग्रह से हमारी धरती और चांद कुछ ऐसे से हमारी धरती और चांद कुछ ऐसे धरती और चांद कुछ ऐसे दिखाई देते हैं मार्स के दो चांद हैं चांद हैं दो चांद हैं चांद हैं जिनका नाम है एक  फोबोस और डीमोस यह दोनों काफी छोटे है जिनमें से एक 22 किलोमीटर चौड़ा जबकि एक सिर्फ तेरा किलोमीटर किलोमीटर किलोमीटर का है यहां तक कि मार्च का डिवोर्स का डिवोर्स चांद इतना छोटा है कि  मंगल ग्रह से कुछ ऐसा दिखाई  पड़ता है जैसे हमें कोई धरती से तारे दिखाई देते हैं नासा का मानना है कि मार्स के भी भविष्य में भविष्य में भी भविष्य में भविष्य में सैटर्न की तरह तरह रिंग होगी इसकी वजह इस का चांद fibrous है जो लगातार इसकी तरफ बढ़ रहा है और दो से चार करोड़ साल बाद इस से टकरा जाएगा टकरा जाएगा से टकरा जाएगा या फिर बीच में सेट कर छोटे-छोटे कर छोटे-छोटे सेट कर छोटे-छोटे टुकड़ों में फट जाएगा और एक रिंग बना देगा तो दोस्तों यह थे कुछ मार्च के बारे में अमेजिंग फैक्ट उम्मीद करता हूं कि आप को पसंद आए होंगे होंगे पसंद आए होंगे होंगे को पसंद आए होंगे होंगे पसंद को पसंद आए होंगे होंगे तो प्लीज इस इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिएगा अपने व्हाट्सएप पर फेसबुक पर टि्वटर पर या फिर इंस्टाग्राम पर या फिर कोई भी सोशल मीडिया हैंडल आप यूज करते हैं तो प्लीज इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक शेयर कीजिएगा मैं इसी तरह के और ज्यादा पोस्ट अपने वेबसाइट पर लाता रहता हूं हमारी वेबसाइट आप रेगुलर विजिट किया करें मिलते हैं हम किसी नेक्स्ट पोस्ट में तब तक के लिए आप अपना ख्याल रखें शुक्रिया हमारी पोस्ट पढ़ने के लिए…!!!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here