SHARE

मिल चुका है कोरोना वायरस का इलाज 

 

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानिकि WHO के मुताबिक कोरोना वायरस किसी भी आम वायरस का ही एक समूह है और इसका नाम कोरोना इसलिए रखा गया क्योंकि इसके बाहरी  हिस्से पर किसी मुकुट जैसी किले मौजूद है | ये कोरोना वायरस अलग अलग तरह के होते है जिसमे से कुछ सिर्फ जानवरों को प्रभावित करते है क्योंकि उनका शरीर इस काबिल नहीं होता कि वो कोरोना वायरस से लड़ पाए और कुछ ऐसे भी होते है जो जानवरों से इंसानो में आ जाते है और इंसान को प्रभावित करते है | 

लेकिन जरूरी नहीं कि इससे हमे मौत का खतरा हो क्योंकि ये वायरस हमारे रेस्पिरेटरी सिस्टम पर हमला करता है जिसकी वजह से हमे सर्दी खांसी हो सकती है अब क्योंकि कोरोना वायरस अलग अलग तरह के होते है इसकी वजह से हमे ब्रोंकाइटिसऔर निमोनिया जैसी गंभीर बीमारिया भी हो सकती है | इन कोरोना वायरस में से एक वायरस ऐसा भी है जो हम इंसानो के लिए काफी ज्यादा जानलेवा है और ये वही वायरस है जो अभी हाल ही में चीन में फैला हुआ है और इस कोरोना वायरस का नाम है COVID-19 | 

 

17 नवंबर 2019 को चीन के वुहान शहर में मौजूद एक मछली मार्केट से शुरू हुआ ये वायरस आज दुनिया भर के कई देशो को अपनी पकड़ में ले चुका है जैसे की इटली, साउथ कोरिया, स्पेन, इंग्लैंड, भारत और भी कई देशो को ये वायरस अपनी चपेट में ले चुका है | 

 

और ये कोरोना वायरस इतना ज्यादा खतरनाक है की 23 फ़रवरी 2020 तक हर रोज़ चीन में होने वाली 150 से भी ज्यादा मौतों का कारण बन चुका था ये कोरोना वायरस | और इस बात की पुष्टि नेशनल हेल्थ कमीशन ने की थी | आज तक अकेले चीन में ही कोरोना वायरस के 80,000 से भी ज्यादा केस दर्ज हो चुके है जिनमे से 3,200 से ज्यादा लोग अपनी जान गवा चुके है और अगर हम दुनिया भर के सभी कोरोना वायरस से ग्रसित लोगो के आकड़े को देखा जाए तो ये आकड़ा 182,000 लोगो के पार जा चुका है जिनमे से 7,100 से ज्यादा लोग अपनी जान गवा चुके है | 

वैसे तो कोरोना वायरस का अभी तक कोई पुख्ता इलाज दुनिया के किसी भी अस्पताल में मौजूद नहीं है लेकिन कई डॉक्टर इस कोरोना वायरस के दिखने वाले लक्षणों का इलाज करके मरीजों को ठीक भी कर रहे है | भारत के जयपुर में मौजूद सवाई मान सिंह अस्पताल में कोरोना के मरीज भर्ती है यहाँ के डॉक्टर ने एक प्रयोग किया | इटली से आई एक महिला जो कोरोना वायरस से पीड़ित मिली | जिसे डॉक्टर ने इलाज के दौरान HIV, स्वाइनफ्लू और मलेरिया की दवा से ठीक कर दिया | हालाकि इन दवाइयों को कोरोना वायरस के लिए किसी पुख्ता दवाई के तोर पर जारी नहीं करा गया है | लेकिन फिर भी दुनिया भर के कई देशो के डॉक्टर इन्ही तरीके की दवाइयों का इस्तमाल करके कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज कर उन्हे ठीक कर रहे है | 

चीन में अब तक लगभग 67,000 से ज्यादा लोगो का इलाज कर उन्हे उनके घर भेजा जा चुका है | वही भारत में 3, इंग्लैंड में 18, मलेशिया में 21 और ऐसे ही दुनिया के कई देशो में कई लोगो को ठीक करा जा चुका है | और साथ ही ऐसे ही और लोगो को भी ठीक करने की कोशिश जारी है | 

 

कोरोना वायरस एक ऐसा वायरस है जो किसी भी आम वायरस के मुकाबले काफी जल्दी फैलता है | अभी तक इसका कोई पुख्ता इलाज नहीं है लेकिन हम इसे फैलने से रोक सकते है जैसे खाँसते या छींकते समय अपने मुँह को कपड़े से ढक कर रखें और किसी ऐसे व्यक्ति जिसे ये वायरस हुआ हो उससे कम से कम 1 मीटर की दूरी बना कर रखे, बाहर से आते ही सबसे पहले अपने हाथों और पैरो को साबुन से अच्छी तरह धोएं, किसी भी तरह की खाने की चीज को खाने से पहले हाथों को अच्छे से धोएं | अगर हम लोग अपने आसपास साफ सफाई रखेंगे तो किसी भी वायरस का दुष्ट प्रभाव हमे नहीं होगा |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here